क्यों न मृत्यु का भी उत्सव किया जाए

एक मात्र शाश्वत सत्य यही,शिव के त्रिनेत्र का रहस्य यही,चंडी का नैसर्गिक रौद्र नृत्य यही,कृष्णा सा श्यामला, राधा सा शस्य यही।तो क्यों न मीरा सा

Continue reading

Rate this:

अफवाह

जीना मुश्किल,मरना आसान हो गया हर दूसरा घर कोई श्मशान हो गया माँ कहीं,बाप कहीं,बेटा कहीं,बेटी कहीं एक ही घर में सब अन्जान हो गया

Continue reading

Rate this: